Author Archives: शालिनी मिश्रा

क्या सच में लालची होना बुरी बात है ? आपकी सोच बदल जाएगी इसको पढ़ने के बाद

“लालच” चाहत का ही दूसरा नाम है. चाहत ही आगे चलकर लालच बन जाती है. जब किसी चीज को पाने की चाहत जरूरत से ज्यादा उत्प्रेरक बन जाए. तो लालच… Read more »

तुमसे प्यार करूँ या सौदा

भरोसा एक ऐसा शब्द है, जो अपने आप में एक पूरा  रिश्ता है. यह आदमी को आदमी से और दो दिलो को एक डोर से जोड़ता है. एक व्यक्ति को दुसरे… Read more »